भदोही पुलिस ने 35 हजार के इनामी बदमाश को किया गिरफ्तार

By प्रभुनाथ शुक्ल

Published on:

Bhadohi police arrested the crook of 35 thousand prize
  • जनपद वाराणसी में काजू लदा ट्रक लूटने और चालक की हत्या करने का है आरोपित
  • गिरफ्तार बदमाश के पास से एक तमंचा दो जिंदा कारतूस और बाइक बरामद

भदोही,15 जनवरी । शब्दरंग न्यूज डेस्क

उत्तर प्रदेश की भदोही पुलिस ने 35 हजार के इनामिया बदमाश को गिरफ्तार करने में कामयाब हुईं है। वह जनपद वाराणसी में काजू लदे ट्रक को लूटने और चालक की हत्या करने का आरोपित है। पुलिस ने उसके पास से एक तमंचा, दो जिंदा कारतूस और घटना में प्रयुक्त फैशन मोटरसाइकिल बरामद की है।

भदोही पुलिस अधीक्षक डॉ. अनिल कुमार पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि चौरी थाने के कन्धिया फाटक के पास धनापुर मार्ग पर दो जनवरी को चेकिंग के दौरान एक ट्रक को रोकने का प्रयास किया गया था। तीन से चार व्यक्ति ट्रक छोड़कर भागने लगे। लेकिन पुलिस इस दौरान दुर्गागंज थाने छनौरा निवासी अमृत लाल यादव पुत्र श्याम नरायण यादव को गिरफ्तार करने में कामयाब रही। बाकि लोग अंधेरे का लाभ उठाने में कामयाब रहे। जिसमें पवन कुमार गौड़ पुत्र राधेश्याम गौड़ भी शामिल था। यहीं उसी के गाँव का रहने वाला है। इस पर 35 हजार का इनाम घोषित हैं और कई आपराधिक मुकदमें दर्ज हैं।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पहली जनवरी को रात्रि में वाराणसी राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित डाफी टोल प्लाजा के पास काजू लदी ट्रक के ड्राइवर ओम प्रकाश उर्फ सन्तोष निवासी वाराणसी को बदमाशों ने हत्या कर काजू लदी ट्रक को लूट लिया था। इस हत्याकाण्ड में पवन कुमार गौड़ पुत्र राधेश्याम गौड़, राजेश विन्द उर्फ खेतई, धर्मेन्द्र कुमार विन्द उर्फ धोनी पुत्र हिंछलाल बिन्द सभी छनौरा थाना दुर्गागंज के निवासी हैं। सभी ट्रक लूट और चालक कि हत्या में शामिल थे।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस हत्याकाण्ड दूसरा मास्टर माइंड पवन कुमार गौड़ पुत्र राधेश्याम गौड़ था। पुलिस ने रात्रि में सुरियावाँ नगर के पावर हाऊस के पास से गिरफ्तार किया। इस पर भदोही पुलिस ने 25 हजार रुपये तथा कमिश्नरेट वाराणसी से 10 हजार रूपये का इनाम घोषित था। जिसे पुलिस गिरफ्तार करने में कामयाब रही।अपराधियों की गिरफ्तारी हेतु जनपद के समस्त थानों के साथ-साथ क्राइम ब्रांच को विशेष रूप से निर्देशित किया गया था।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ट्रक लूटने के बाद उसके नंबर यूपी/64/टी/ 2121 को टेम्परिंग 2721 कर दिया गया था। पुलिस को पवन ने बताया कि दो जनवरी को कंधिया फाटक के पास रात्रि में पुलिस को देखकर ट्रक छोड़कर भाग गया था। मेरा साथी अमृतलाल पकड़ा गया था तथा मै , धमेन्द्र उर्फ धोनी,राजेश विन्द उर्फ खेतई मौके से भाग गये थे। सात जनवरी को भदोही थाने के करियांव में पुलिस मुठभेड़ में राजेश उर्फ खेतई करियांव गोली चलाये थीं। बाद में पुलिस उसे गिरफ्तार करने में कामयाब रही, जबकि मैं भागने में सफल रहा था। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम को 35 हजार रुपए का घोषित पुरस्कार दिया जाएगा।

प्रभुनाथ शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, कवि और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते हैं। हिंदुस्तान, जनसंदेश टाइम्स और स्वतंत्र भारत अख़बार में बतौर ब्यूरो कार्यानुभव।

Leave a Comment