गणेश स्कूल के समर कैंप में बच्चों ने लिया घुड़सवारी का आनंद

By प्रभुनाथ शुक्ल

Updated on:

horse riding

व्यक्तित्व विकास बच्चे की शिक्षा का महत्वपूर्ण हिस्सा है- अरुण ओझा

सीधी। श्री गणेश सीनियर सेकेंडरी स्कूल, पड़रा में जारी 15 दिवसीय समर कैंप के दसवें दिन विद्यार्थियों ने घुड़सवारी की और उसका भरपूर आनंद लिया। इस दौरान ट्रेनर द्वारा बच्चों को घुड़सवारी के बारे में विधिवत जानकारी भी दी गई जिसमे विद्यार्थियों को घुड़सवारी की मूल बातें सीखने का अवसर मिला।

Children enjoyed horse riding

स्कूल प्रवक्ता राजकपूर चितेरा ने बताया कि समर कैंप के दौरान विभिन्न गतिविधियां करवाई जा रही है। जिसमें डांस, म्यूजिक, आर्ट एंड क्राफ्ट, कैलीग्राफी, योग प्रशिक्षण, स्केटिंग, बॉक्सिंग, मार्शलआर्ट, आरचरी, बास्केटबाल, बैडमिंटन, रायफल शूटिंग, स्विमिंग व पूल पार्टी, घुड़सवारी, सिनेमा, अभिनय, कंप्यूटर एव स्पोकन इंग्लिश आदि की क्रियाएं बच्चों को करवाई जा रही है। बताया कि यह कैंप 15 मई तक चलेगा।

घुड़सवारी

संस्था के सह-निदेशक अरुण ओझा ने कहा कि हमारा मानना है कि व्यक्तित्व विकास बच्चे की शिक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। हमारा ग्रीष्मकालीन शिविर ऐसी गतिविधियाँ प्रदान करता है जो बच्चों को संचार, समस्या-समाधान और नेतृत्व जैसे महत्वपूर्ण जीवन कौशल विकसित करने में मदद करती हैं। हम बच्चों में आत्मविश्वास और आत्म-जागरूकता पैदा करने में मदद करेंगे, ताकि वे स्कूल और जीवन में सफल हो सकें। उन्होंने इस शिविर को विद्यार्थियों की शारीरिक एवं बौद्धिक विकास के लिए अत्यंत उपयोगी बताया। श्री ओझा ने विद्यार्थियों को आशीर्वाद प्रदान करते हुए उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने समर कैंप में हिस्सा लेने के लिए विद्यार्थियों व टीचरों का विशेष तौर पर धन्यवाद किया।

horse riding in the summer camp

इस अवसर पर विद्यार्थियों के साथ-साथ समर कैंप कोर्डिनेटर एच.एम प्रीती शर्मा, इंचार्ज अवतार कृष्ण, को-इंचार्ज शुभांगना द्विवेदी व माखनलाल मिश्र, शिक्षक तरुणनाथ मिश्र, डीके खरे, अंकिता सेन, अंकुर मिश्र, वंशभान यादव, सुजीत कुमार दीक्षित एवं ज्योति सिंह चंदेल आदि स्टाफ सदस्य उपस्थित थे।

ये भी पढ़े : गणेश स्कूल के समर कैंप में बच्चों ने देखी मोटिवेशनल मूवी ‘निल बटे सन्नाटा’

प्रभुनाथ शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, कवि और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते हैं। हिंदुस्तान, जनसंदेश टाइम्स और स्वतंत्र भारत अख़बार में बतौर ब्यूरो कार्यानुभव।

Leave a Comment