बिटिया

By shabdrang

Updated on:

bitiya-sarasawati-ramesh

बाबुल की मुंडेर पर
चिड़ियों की तरह
दिन रात फुदकने वाली बिटिया
जब ब्याह दी जाती है परदेस
तब अपने ससुराल के झरोखे से
ताकती रहती है
बाबुल की राह
अभी अम्मा रसोई घर से निकलेगी
उनके लिए लेकर दाना पानी
पुकारेगी-मेरी गुड़िया रानी
और वे चहक कर
पकड़ लेंगी थाली
अभी पापा पुकारेंगे तौलिए के लिए
और बिटिया को न पाकर
हो जाएंगे उदास
अम्मा कहेगी-
बिटिया को क्यों दूर ब्याह दिया
पापा कहेंगे- हाँ बहुत दूर ब्याही गई
और दोनों अपने अपने कोनों में जाकर
रो लेंगे चुपचाप
अम्मा बिटिया के छोड़े हुए कपड़ों में
मुँह दबा सिसकेगी
पापा सूने आंगन को देख तड़पेंगे
जग की रीत को देंगे उलाहना
कोसेंगे बेटियो की तकदीर को
लेकिन अगर कभी
किसी कारण वश
मुसीबत में पड़ जाए बेटी
और लौट आये बाबुल के घर
मांगने लगे रहने का ठौर
तब जाने क्यों यही बाबुल
कठोर हो लिख देते हैं
बेटियों को वनवास

कवयित्री-सरस्वती रमेश

shabdrang

शब्दरंग एक समाचार पोर्टल है जो भारत और विश्व समाचारों की कवरेज में सच्चाई, प्रामाणिकता और तर्क देने के लिए समर्पित है। हमारा उद्देश्य शिक्षा, मनोरंजन, ऑटोमोबाइल, प्रौद्योगिकी, व्यवसाय, कला, संस्कृति और साहित्य सहित वर्तमान मामलों पर एक व्यापक परिप्रेक्ष्य प्रदान करना है। ज्ञानवर्धक और आकर्षक सामग्री के माध्यम से दुनिया के विविध रंगों की खोज में हमारे साथ जुड़ें।

Leave a Comment