ग्रामीण विकास में मीडिया की भूमिका बेहद अहम : अनिरुद्ध त्रिपाठी

By प्रभुनाथ शुक्ल

Published on:

Discussion organized on the topic of role of journalists
  • सरकार की विकास योजनाओं में पत्रकारिता की भूमिका अहम: दीनानाथ भास्कर
  • पत्रकार रिपोर्टिंग के वक्त तकनीकी और सकारात्मक पक्ष का भी रखें ख्याल : डीएम-एसपी

भदोही, 02 अगस्त। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) वाराणसी ने मीडिया कार्यशाला का आयोजन किया। इस दौरान केंद्र एवं राज्य सरकार की योजनाओं में पत्रकारों की भूमिका विषय पर परिचर्चा आयोजित की गयी। कार्यशाला का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन के बाद हुआ।

कार्यशाला में अपनी बात रखते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष अनिरुद्ध त्रिपाठी ने कहा कि ग्रामीण विकास में मीडिया कि भूमिका को नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार में चौमुखी विकास हो रहा है। जिले में आज तक जहां सड़कें नहीं बनी थी वहां जिला पंचायत में सड़कें पहुंचायी है। मीडिया के माध्यम से जहां-जहां जानकारी मिलती है उसे प्रस्ताव में शामिल कर विकास का प्रयास किया जा रहा है। विकास में पत्रकारों और पत्रकारिता की भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकता है।

औराई विधायक दीनानाथ भास्कर ने कहा कि मेरे संज्ञान में तमाम खबरें अखबार के माध्यम से आती हैं। जिसके बाद हम उस पर अमल करते हैं और विकास की कड़ी में उन बातों को शामिल करते हैं। आज के दौर में पत्रकारिता की भूमिका को इनकार नहीं किया जा सकता है। पत्रकार दिन रात एकजुट होकर सरकार के विकास कार्य में सहयोग करते हैं और हमारी कमियों पर सकारात्मक आलोचना भी करते हैं। उन्होंने कहा कि मेरे सामने प्रेस क्लब की बात आई है। अभी तक यह मामला मेरे संज्ञान में नहीं आया था। जिलाधिकारी से आग्रह करते हैं कि तत्काल जमीन उपलब्ध करायी जाए इसके बाद पत्रकारों के भवन के लिए हम धन मुहैया कराएंगे।

जिलाधिकारी आर्यका अखौरी विकास कार्यों पर संक्षिप्त में प्रकाश डालते हुए कहा कि मानते हैं तमाम प्रशासनिक स्तर पर भी खामियां हो सकती हैं, लेकिन पत्रकरों को अच्छी खबारों को सकारात्मक रूप से लेते हुए खबरों के माध्यम से विकास कार्यों पर रिपोर्ट तैयार करनी चाहिए। जिलाधिकारी ने केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं पर बल दिया। ग्रामीण इलाकों में तमाम तकनीकी खामियों से भी कुछ विकास कार्य में दिक्कतें होती हैं, लेकिन जिला प्रशासन अपने स्तर से उन्हें हल करता है। पत्रकारों से अनुरोध है कि सरकार की जो योजनाएं चल रही हैं उस एक अच्छी रिपोर्ट प्रशासन के का हौसला बढ़ती है।

मुख्य विकास अधिकारी ने जनपद के सभी विभागों की योजनाओं पर अपनी बात रखते हुए कहा कि हमें पत्रकारों के माध्यम से तमाम खामियां मिलती हैं। जिस पर त्वरित कार्रवाई की जाती है। बेसिक शिक्षा विभाग में 19 बिंदुओं पर कार्य चल रहा है। बेसिक शिक्षा विभाग में 88 फीसदी कार्य पूर्ण हो चुका है। बाकी बचे कार्यों पर निगरानी रखी जा रही है। मीडिया के माध्यम से जो भी शिकायतें आती हैं उस पर अमल किया जाता है। इस दौरान शिक्षा, समाज कल्याण, नगर विकास और बाल विकास विभागों ने भी अपनी बात रखी।

पुलिस अधीक्षक डॉ अनिल कुमार ने कहा कि हमें सकारात्मक खबरों पर विशेष बल देना चाहिए। खबरों के संपादन के समय भी घटनाओं का संदर्भ लेना चाहिए। विशेष रुप से बाल अपराध की घटनाओं में पीड़ित या आरोपी के नाम से परहेज करना चाहिए। नाबालिग मामलों में सुप्रीम कोर्ट और अन्य संस्थानों की गाइडलाइन का अनुपालन करना चाहिए। बीएचयू पत्रकारिता विभाग से संबंधित प्रोफेसर बाला लखेंद्र ने पत्रकारिता के विषय में पत्रकारों को तकनीकी जानकारी उपलब्ध करायी। उन्होंने जिलाधिकारी से समय-समय पर ग्रामीण पत्रकारों के लिए मीडिया कार्यशाला आयोजित करने की बात कही।

पीआईबी वाराणसी इकाई के प्रशांत कक्कड़ ने कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए सभी अफसरों और पत्रकारों धन्यवाद ज्ञापित किया। इस दौरान आमंत्रित अतिथियों को शाल और बुक देकर सम्मानित किया गया।कक्कड़ ने कार्यक्रम में विशेष सहयोग के लिए जिला सूचना अधिकारी पंकज कुमार, आकाशवाणी और दूरदर्शन संवाददाता संजय श्रीवास्तव और महेश जायसवाल का विशेष आभार जताया। कार्यक्रम में सत्येंद्र कुमार, शिव कुमार झा, श्रीराम प्रजापति और रजत कुमार ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

प्रभुनाथ शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, कवि और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते हैं। हिंदुस्तान, जनसंदेश टाइम्स और स्वतंत्र भारत अख़बार में बतौर ब्यूरो कार्यानुभव।

Leave a Comment