‘सी-विजिल एप्प’ पर करें शिकायत 100 मिनट में मिलेगा समाधान

By प्रभुनाथ शुक्ल

Published on:

Electoral struggle 2022 Complaint on C-Vigil App solution will be available in 100 minutes

चुनावी महासंग्राम : 2022

  • जनपद की तीनों विधानसभाओं में मदाताओं की संख्या 11,92,443
  • निष्पक्ष मतदान के लिए बनाए गए कुल 710 केन्द्र व 1371 मतदेय स्थल

भदोही, 09 जनवरी । शब्दरंग न्यूज डेस्क

राज्य विधानसभा का चुनाव निष्पक्ष सम्पन्न कराने के लिए जिला निर्वाचन और प्रशासन तैयार है। शनिवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला निर्वाचन अधिकारी आर्यका अखौरी और पुलिस अधीक्षक डा. अनिल कुमार ने ने बताया कि आदर्श चुनाव आचार संहिता का पूरी तरह अनुपालन होगा।’सी-विजिल एप्प’ 100 मिनट में लोगों को चुनाव सम्बन्धी जानकारी उपलब्ध कराएगा।

निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार 15 जनवरी तक किसी भी तरह की रोड शो, रैली, साईकिल रैली, पदयात्रा पर रोक लगा दी गयी है। इस दौरान किसी भी राजनैतिक दल व अन्य किसी के द्वारा किसी भी प्रकार का कोई आयोजन नहीं किया जायेगा। कोई भी व्यक्ति टोल फ्री नम्बर-1950 पर चुनाव विषयक शिकायत, जिज्ञासा, आपत्ति दर्ज करा सकता है। अगर वह कोई भी जानकारी चाहता है तो आयोग उसे भी उपलब्ध कराएगा।

‘सी-विजिल एप्प’ कोई भी जिम्मेदार नागरिक चुनाव संबंधी किसी भी समस्या या शिकायत को दर्ज करा सकता है। इसके अलावा वह आपत्ति जनक संवाद के साथ वीडियों तथा अन्य विषयों की फोटो और रिकार्डिग अपलोड कर जिला प्रशासन को अवगत करा सकता है। जिसका निस्तारण 100 मिनट में हो जाएगा।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि लोगों को अधिक से अधिक मतदान करने के लिए मतदाता जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से प्रेरित किया जा रहा है। इसके लिए प्रत्येक विधानसभा में एक-एक आदर्श बूथ बनाये गये है। उन्होंने मीडिया से अपील किया कि समाचार पत्रों, विभिन्न टीवी चैनलों व सोशल मीडिया के माध्यम से भदोही वासियों को अधिक से अधिक मतदान के लिए प्रेरित करें। उन्होंने बताया कि जनपद में आदर्श आचार संहिता लागू हो गयी है, कल शाम से ही बैनर, पोस्टर, होर्डिग्स हटवाने का कार्य प्रारम्भ करा दिया गया है।

जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि जनपद के तीनों विधानसभा क्षेत्र मिलाकर कुल 11,92,443 मतदाता है, तथा निर्वाचन कार्य को शान्तिपूर्ण, निष्पक्ष, पारदर्शी तरह से सम्पन्न कराने के लिए कुल 710 केन्द्र व 1371 मतदेय स्थल बनाये गये है। सरकारी सम्पत्ति, भवनों सहित अन्य पब्लिक एवं प्राईवेट सपत्तियों पर किसी भी प्रकार का बैनर, पोस्टर, होर्डिग्स न लगाये। यदि किसी द्वारा लगाया गया हो तो उसे स्वयं हटवाले, अन्यथा जिला प्रशासन के द्वारा हटवाये जाने पर सम्बन्धित को नोटिस भेजते हुए, होने वाले व्यय की वसूली करते हुए विधिक कार्यवाई करेगा।

प्रभुनाथ शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, कवि और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते हैं। हिंदुस्तान, जनसंदेश टाइम्स और स्वतंत्र भारत अख़बार में बतौर ब्यूरो कार्यानुभव।

Leave a Comment