आजकल जो भी लिख तो सब कविता है

By shabdrang

Updated on:

Everything you write nowadays is poetry

आज हिन्दी कविता का हाल यह है कि जो भी लिख दो वह कविता है, और इसे लिखने वाला स्वघोषित दुनिया का सबसे बड़ा कवि है। निराला की कुछ कविताओं को मुद्दा बनाकर लोग अपने को निराला से बउ़ा कवि घोषित कर रहे हैं, जबकि न छंद की तमीज़ है और न ही कंटेंट की।- ‘मै बाज़ार में सब्जी खरीदने गया। आलू, लौकी, भिंडी खरीदा, फल दूसरी दुकान से लिया।’ इसे टुकड़ों को बांट दिया और हो गई कविता, लिखने वाला हो गया दुनिया का सबसे बड़ा कवि। किसी को कुछ सीखने या जानने की ज़रूरत नहीं है, और न ही बड़े कवियो को पड़ने की ज़रूरत है, इसलिए जो कविता लिखता है, वही खुद पढ़ता है, कोई दूसरा नहीं पड़ता। यह सूरतेहाल ने कविता को पाठकों से कोसों दूर कर दिया है, मगर कवि महोदय दुनिया के सबसे बड़े कवि हैं, किसी दूसरे की प्रशंसा करने की ज़रूरत ही नहीं है, खुद की प्रशंसा कर लेते हैं।

-इम्तियाज़ अहमद ग़ाज़ी

shabdrang

शब्दरंग एक समाचार पोर्टल है जो भारत और विश्व समाचारों की कवरेज में सच्चाई, प्रामाणिकता और तर्क देने के लिए समर्पित है। हमारा उद्देश्य शिक्षा, मनोरंजन, ऑटोमोबाइल, प्रौद्योगिकी, व्यवसाय, कला, संस्कृति और साहित्य सहित वर्तमान मामलों पर एक व्यापक परिप्रेक्ष्य प्रदान करना है। ज्ञानवर्धक और आकर्षक सामग्री के माध्यम से दुनिया के विविध रंगों की खोज में हमारे साथ जुड़ें।

Leave a Comment