कविता : हर घर तिरंगा (Har Ghar Tiranga)

By Rajkapoor Chitera

Published on:

Har Ghar Tiranga

हर दिल में तिरंगा हो, हर मन में तिरंगा हो
घर घर में तिरंगा हो, हर घर में तिरंगा हो।
यह शौर्य निशानी है, वीरों की कहानी है
समता का पोषक है, बलिदान का सूचक है
यह मन को भाता है, यह प्रगति बताता है
यह शांति का है प्रतीक, ना कोई पंगा हो
घर घर में तिरंगा हो, हर घर में तिरंगा हो।

घर-घर लहराओ तो, सबको समझाओ तो
इस दिन की जो कीमत, सबको बतलाओ तो
सम्मान हृदय में जिसका, अपमान न हो इसका
अपमान हुआ गर जो, कुर्बान पतंगा हो
घर घर में तिरंगा हो, हर घर में तिरंगा हो।

यह शान हमारी है, यह जान से प्यारी है
है दिव्य छवि इसकी, दुनिया से न्यारी है
रखने को इसकी शान, होना जो पड़े कुर्बान
बस इतनी गुजारिश है, हाथों में तिरंगा हो
घर घर में तिरंगा हो, हर घर में तिरंगा हो।

कहते हैं वंदे मातरम, जय हिंद की बोलेंगे
नित नई सुबह प्रगति की, नई राहें खोलेंगे
सब में हो भाईचारा, ना कोई रहे बेचारा
भोजन और वस्त्र मिले सबको, ना कोई भूखा नंगा हो
घर घर में तिरंगा हो, हर घर में तिरंगा हो।

करता है नमन ‘चितेरा’, बलिदान से जिनके उजेरा
उनकी है अमृत वाणी, हैं सभी अमर बलिदानी
यह अमृत उत्सव पावन, ज्यों पावन गंगा हो
घर-घर में तिरंगा हो, हर घर में तिरंगा हो।

-राजकपूर चितेरा

tags : Har Ghar Tiranga, Azadi Ka Amrit Mahotsav, 75th Anniversary of Indian Independence, Independence day 2022,

Rajkapoor Chitera

RajKapoor Chitera is a passionate painter and prolific writer, known for his insightful perspectives on current affairs. With a keen eye for detail and a profound understanding of art, Raj Kapoor's paintings reflect his deep appreciation for beauty and creativity. In addition to his artistic pursuits, RajKapoor is also the founder and editor-in-chief of Shabdrang, a popular news blog that covers a wide range of topics, from politics to culture. Through Shabdrang, RajKapoor aims to provide readers with thought-provoking content that stimulates discussion and fosters a deeper understanding of the world around us. Whether he's wielding a paintbrush or crafting a compelling article, RajKapoor Chitera is a true artist at heart, constantly seeking to inspire and enlighten others through his work.

Leave a Comment