नया साल इन दिनों..

By shabdrang

Published on:

New year these days Kavita Ajay Ehsaas

सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनों
कुछ की बदल गयी है देखो चाल इन दिनों
जो हाथ मिलाते थे अदब से करें आदाब
अब पूछते नहीं हमारा हाल इन दिनों
सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनों।।

क्या बात है मचा है क्यो बवाल इन दिनों
पूंजीपती ही देखो मालामाल इन दिनों
सड़कों पे उतरते हैं क्यों दम तोड़ते किसान
क्यो कर रहे किसान को बेहाल इन दिनों
सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनों।।

सबका ही सो गया भविष्य काल इन दिनों
सुनते हैं इक नया कोरोनाकाल इन दिनों
मरते रहें मजदूर साहबान क्या करें
मखमल की सेज पर करें धमाल इन दिनों
सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनो

जीते चुनाव चल दिए पाताल उन दिनों
आते चुनाव ठोंक रहे ताल इन दिनों
क्या क्या न किया हमने तुम पे करके भरोसा
लेकिन हुए हैं देख लो कंगाल इन दिनों
सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनों।।

तपसी भी झेलते दिखे जंजाल इन दिनों
उलझे हैं सुन्दरी के रूप जाल इन दिनों
साधू हो या फ़कीर या हो औलिया कोई
किरदार पर ही उठ रहे सवाल इन दिनों
सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनों।।

इस ठंड में खुद का रखो ख्याल इन दिनों
चादर फटी पुरानी रख संभाल इन दिनों
कपड़े खरीदने की भी हिम्मत नहीं रही
नये साल में ओढ़े पुराना शाल इन दिनों
सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनों।।

नफ़रत को छोड़ दिल में प्यार पाल इन दिनों
शादी हुई रख बीबी को खुशहाल इन दिनों
जो हैं कुंवारे ऐ खुदा! तू थाम उनका हाथ
हल्दी से पीले मेंहदी से कर लाल इन दिनों
सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनों।।

‘एहसास’ है, बचा है बस कंकाल इन दिनों
कम हो गया उमर का अब इक साल इन दिनों
अब हो गयी है महंगी सब्जी दाल इन दिनों
ज़िन्दा हैं और जी रहे हर हाल इन दिनों
सुनते हैं आ गया है नया साल इन दिनों।।

– अजय एहसास

सुलेमपुर परसावां, जिला- अम्बेडकर नगर (उ०प्र०)

shabdrang

शब्दरंग एक समाचार पोर्टल है जो भारत और विश्व समाचारों की कवरेज में सच्चाई, प्रामाणिकता और तर्क देने के लिए समर्पित है। हमारा उद्देश्य शिक्षा, मनोरंजन, ऑटोमोबाइल, प्रौद्योगिकी, व्यवसाय, कला, संस्कृति और साहित्य सहित वर्तमान मामलों पर एक व्यापक परिप्रेक्ष्य प्रदान करना है। ज्ञानवर्धक और आकर्षक सामग्री के माध्यम से दुनिया के विविध रंगों की खोज में हमारे साथ जुड़ें।

Leave a Comment