यूक्रेन में फंसे छात्रों की स्वदेश वापसी के लिए तेज हुआ ‘ऑपरेशन गंगा’

By प्रभुनाथ शुक्ल

Published on:

यूक्रेन में फंसे छात्रों की स्वदेश वापसी के लिए तेज हुआ 'ऑपरेशन गंगा'
  • भारतीय दूतावास से छात्रों और परिजनों को संपर्क साधने के लिए कहा गया
  • भारतीय दूतावास और उत्तर प्रदेश सरकार के नियंत्रण कक्ष के नंबर जारी

भदोही, 01 मार्च । शब्दरंग न्यूज़ डेस्क/ प्रभुनाथ शुक्ल

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों कि स्वदेश वापसी के लिए केंद्र सरकार और भारतीय दूतावास ने प्रकिया तेज कर दी है। अभिभावकों से तत्काल दूतावास से संपर्क करने के लिए कहा गया है। जनपद से आधे दर्जन से अधिक छात्र यूक्रेन में फंस गए।आम लोगों को लेकर यह संख्या और अधिक हो सकती है। सरकार ने यूक्रेन में फंसे छात्रों की स्वदेश वापसी के लिए तेज हुआ ‘आपरेशन गंगा’

अपर मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश सरकार एवं राहत आयुक्त की तरफ से दूतावास के दूरभाष नंबर लोगों को उपलब्ध कराए गए हैं। जारी सूचना में कहा गया है कि भारत सरकार यूक्रेन में फंसे सभी छात्रों और भारतीयों को स्वदेश वापसी के कटिबद्ध है। परिजनों से कहा गया है कि वह संबंधित नंबरों पर अपने संपूर्ण पते और मेल के जरिए फंसे छात्रों के पते और दूरभाष नंबर दूतावास को उपलब्ध कराएं।

अपर मुख्य सचिव के आदेश के बाद भारतीय दूतावास और विदेश मंत्रालय के संपर्क और ईमेल जारी किए गए। भारतीय दूतावास की तरफ से जो दूरभाष नंबर जारी किए गए हैं उस पर यूक्रेन में फंसे परिजन और छात्र संपर्क कर सकते हैं। दूरभाष 911123012113 और 9111 23014104 एवं 911123017905 किया जा सकता है। इसके अलावा नई दिल्ली स्थित नियंत्रण कक्ष से संपर्क कर स्थिति से अवगत कराया जा सकता है। नई दिल्ली में कन्ट्रोल रूम- 1800118797 और मेल पर संपर्क किया जा सकता है।

जबकि उत्तर प्रदेश से जो छात्र यूक्रेन में फंसे हैं उनकी तरफ से राज्य सरकार ने भी नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। यूक्रेन में फंसे सारे छात्रों की सूचना कीव स्थित भारतीय दूतावास को अपडेट की जा रही है। सूचना को संज्ञान में लेते हुए भारतीय दूतावास छात्रों से संपर्क कर रहा है और बदले हालात में उन्हें जल्द से जल्द यूक्रेन से निकालने की कार्यवाही शुरू कर दी गई है। राज्य सरकार की तरफ से लखनऊ में जो नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है उसका नंबर 0522-1070, मोबाइल नम्बर 9454411081 है। संपर्क के दौरान परिजनों का पूरा पता मोबाइल नंबर और यूक्रेन में फंसे छात्र का पूरा पता और संपर्क अनावश्यक। इसके अलावा आपदा विशेषज्ञ आरसी खान के मोबाइल 9910728487 पर भी सूचना उपलब्ध करायी जा सकती है। सम्बंधित जानकारी के आधार पर भारतीय दूतावास छात्रों से संपर्क कर उन्हें स्वदेश वापसी का रास्ता साफ करेगा।

अपर मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश सरकार एवं राहत आयुक्त की तरफ से दूतावास के दूरभाष नंबर लोगों को उपलब्ध कराए गए हैं। जारी सूचना में कहा गया है कि भारत सरकार यूक्रेन में फंसे सभी छात्रों और भारतीयों को स्वदेश वापसी के कटिबद्ध है। परिजनों से कहा गया है कि वह संबंधित नंबरों पर अपने संपूर्ण पते और मेल के जरिए फंसे छात्रों के पते और दूरभाष नंबर दूतावास को उपलब्ध कराएं।

अपर मुख्य सचिव के आदेश के बाद भारतीय दूतावास और विदेश मंत्रालय के संपर्क और ईमेल जारी किए गए। राज्य के सभी जिलों को भारतीय दूतावास की तरफ से दूरभाष नंबर जारी किए गए हैं उस पर यूक्रेन में फंसे परिजन और छात्र संपर्क कर सकते हैं। दूरभाष 911123012113 और 9111 23014104 एवं 911123017905 किया जा सकता है। इसके अलावा नई दिल्ली स्थित नियंत्रण कक्ष से संपर्क कर स्थिति से अवगत कराया जा सकता है। नई दिल्ली में कन्ट्रोल रूम- 1800118797 और मेल पर संपर्क किया जा सकता है।

जबकि उत्तर प्रदेश से जो छात्र यूक्रेन में फंसे हैं उनकी तरफ से राज्य सरकार ने भी नियंत्रण कक्ष स्थापित किया है। यूक्रेन में फंसे सारे छात्रों की सूचना कीव स्थित भारतीय दूतावास को अपडेट की जा रही है। सूचना को संज्ञान में लेते हुए भारतीय दूतावास छात्रों से संपर्क कर रहा है और बदले हालात में उन्हें जल्द से जल्द यूक्रेन से निकालने की कार्यवाही शुरू कर दी गई है। राज्य सरकार की तरफ से लखनऊ में जो नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है उसका नंबर 0522-1070, मोबाइल नम्बर 9454411081 है। संपर्क के दौरान परिजनों का पूरा पता मोबाइल नंबर और यूक्रेन में फंसे छात्र का पूरा पता और संपर्क अनावश्यक। इसके अलावा आपदा विशेषज्ञ आरसी खान के मोबाइल 9910728487 पर भी सूचना उपलब्ध करायी जा सकती है। सम्बंधित जानकारी के आधार पर भारतीय दूतावास छात्रों से संपर्क कर उन्हें स्वदेश वापसी का रास्ता साफ करेगा।

प्रभुनाथ शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, कवि और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते हैं। हिंदुस्तान, जनसंदेश टाइम्स और स्वतंत्र भारत अख़बार में बतौर ब्यूरो कार्यानुभव।

Leave a Comment