Paytam crisis : पेटीएम पर RBI बैंक के प्रतिबंधों को देखते हुए कैट ने व्यापारियों को अन्य पेमेंट एप पर शिफ्ट होने की दी सलाह

By अजय एहसास

Published on:

Paytm Banking Service

Paytam crisis : RBI बैंक द्वारा हाल में पेटीएम बैंकिंग सेवा (Paytm Banking Service) पर लगाये प्रतिबंधों को लेकर देश भर में व्यापारी जो PAYTM का उपयोग कर रहे हैं, मैं अपने धन को लेकर बेहद चिंताएँ और आशंकाएँ है, जिसके तहत कैट ने देश भर में पेटीएम की बैंकिंग सर्विस (Paytm Banking Service) का उपयोग करने वाले व्यापारियों को सावधान करने के लिए सलाह जारी की है। जिसमें कहा गया है कि पेटीएम उपयोगकर्ता अपने धन की सुरक्षा के लिए तुरंत उपाय करें और बिना किसी नुक़सान के अपने वित्तीय लेन-देन को सुनिश्चित करें।

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि बड़ी संख्या में लोग छोटे व्यापारी, विक्रेता, हॉकर्स और महिलाएं पेटीएम Paytm के माध्यम से लेन-देन कर रहे हैं और आरबीआई के प्रतिबंध से इन लोगों को वित्तीय अशांति हो सकती है।

Paytam crisis

मनी लाउंड्रिंग की आशंका

कैट प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र जैन ने कहा कि पेटीएम की बैंकिंग सर्विस (Paytm Banking Service) पर प्रतिबंध का प्रमुख कारण में से एक बिना सही पहचान के बनाये गये करोड़ों अकाउंट थे। इन एकाउंट्स के तहत केवाईसी (अपने ग्राहक की पहचान) की प्रक्रिया पूरी नहीं की थी। इतना ही नहीं इसमें बिना पहचान के करोड़ों रुपये का लेन देन भी किया था जिसे मनी लाउंड्रिंग की आशंका पैदा हुई है।

पेटीएम की बैंकिंग सर्विस नियमों का पालन नहीं कर रहा

ग्रेट प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष संदेश जैन ने बताया कि मीडिया समाचारों के अनुसार आरबीआई के प्रतिबंध लगाने का एक सबसे बड़ा कारण यह रहा कि पेटीएम पेमेंट बैंक के तहत एक पैन पर एक हज़ार से अधिक यूज़र्स के अकाउंट जुड़े हुए थे। इसके अलावा आरबीआई और ऑडिटर्स दोनों द्वारा जाँच में पाया गया कि पेटीएम बैंक नियमों का पालन नहीं कर रहा है।

कैट प्रदेश उपाध्यक्ष जितेंद्र पचौरी ने कहा कि कैट का मानना है कि अगर फण्ड की हेराफेरी का कोई भी सबूत पाया जाता है तो ईडी को पेटीएम पेमेंट बैंक की जाँच करनी चाहिए। श्री भरतिया एवं खंडेलवाल ने बताया कि आरबीआई द्वारा पेटीएम की बैंकिंग सर्विस (Paytm Banking Service) पर लगाए गए हाल के प्रतिबंधों ने प्लेटफ़ॉर्म द्वारा प्रदान की जाने वाली वित्तीय सेवाओं की सुरक्षा और साथ में जारी करने के संबंध में समस्याएं उत्पन्न की हैं।

पेटीएम से अपना पैसा तुरंत निकालें

कैट प्रदेश सचिव दीपक सेठी ने व्यापारियों के लिए अपने धन जोखिम को कम करने के लिए सलाह दी है कि वो पेटीएम से अपना पैसा तुरंत निकालें और अन्य पेटीएम एप पर स्विच कर जायें। व्यापारी के लेन-देन की सुरक्षा और वित्तीय संपत्ति की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए, दोनों व्यापारी नेताओं ने पेटीएम की बैंकिंग सर्विस (Paytm Banking Service) उपयोगकर्ताओं को सीधे यूपीआई के ज़रिए लेन-देन की सलाह दी है वहीं दूसरी ओर अनेक बैंकों के पेमेंट एप को भी उपयोग किया जा सकता है । 

आरबीआई की सराहना

कैट प्रदेश कोऑर्डिनेटर (महिला विंग) सीमा सिंग चौहान ने कहा कि कैट की सलाह हाल में रिज़र्व बैंक की कार्यवाही के मद्देनज़र व्यापारियों के वित्तीय हितों की सुरक्षा के लिए ज़रूरी है। सिंह ने कहा कि कैट आरबीआई द्वारा इस तरह के कदम उठाए जाने की सराहना करती है।

Read More : शीर्षक- मैं हिन्दू तू मुसलमान।।

कैट जबलपुर जिला अध्यक्ष रोहित खटवानी ने कहा कि आरबीआई को इस तरह की और भी अन्य मोबाइल एप्स द्वारा यूपीआई पेमेंट किए जाने पर नजर रखनी चाहिए ताकि भविष्य में और कोई भी कंपनी इस तरह का काम ना कर सके। कैट जबलपुर जिला सचिन मनु शरत तिवारी ने कहा कि कैट ऐसी सभी कंपनियों का पुरज़ोर विरोध करता रहेगा जो देश के निगम एवं क़ानूनों की कोई चिंता न करते हुए लगातार उल्लंघन करती हैं।

अजय एहसास

युवा कवि और लेखक, अजय एहसास उत्तर प्रदेश राज्य के अम्बेडकर नगर जिले के ग्रामीण क्षेत्र सलेमपुर से संबंधित हैं। यहाँ एक छोटे से गांव में इनका जन्म हुआ, इनकी इण्टरमीडिएट तक की शिक्षा इनके गृह जनपद के विद्यालयों में हुई तत्पश्चात् साकेत महाविद्यालय अयोध्या फैजाबाद से इन्होंने स्नातक की उपाधि प्राप्त की। बचपन से साहित्य में रुचि रखने के कारण स्नातक की पढ़ाई के बाद इन्होंने ढेर सारी साहित्यिक रचनाएँ की जो तमाम पत्र पत्रिकाओं और बेब पोर्टलो पर प्रकाशित हुई। इनकी रचनाएँ बहुत ही सरल और साहित्यिक होती है। इनकी रचनाएँ श्रृंगार, करुण, वीर रस से ओतप्रोत होने के साथ ही प्रेरणादायी एवं सामाजिक सरोकार रखने वाली भी होती है। रचनाओं में हिन्दी और उर्दू भाषा के मिले जुले शब्दों का प्रयोग करते हैं।‘एहसास’ उपनाम से रचना करते है।

Leave a Comment