अगले जनम में..

By अजय एहसास

Published on:

poem in the next life Ajay Ehsaas

जाने वो मनहूस घड़ी
जब उसने ये बात कही
बोली रहना ना गम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में।

कपतें होंठ से उसने कहा
सुन अंखियों से नीर बहा
पल में ऐसा बोल दिया
जहर विरह का घोल दिया
आंखें रहती हैं अब नम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में।

तपती धरा हृदय की मेरी
जल की जिसको आस नहीं
पतझड़ आया है जीवन में
बुझती मेरी प्यास नहीं
हरियाली है अब कम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में।

ना श्रृंगार दिखा उसका
और नयन भी ना मिलने पाये
कहती है यह राह कठिन है
जिस पर हम चले आये
रहिए ना अब ऐसे भरम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में।

प्रथम मिलन की स्मृति वह
जब झगड़ के उसने बोला था
द्रवित किया था मन को मेरे
पत्थर दिल को खोला था
जगह बना ली थी मन में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में।

रातों को ख्वाबों में आकर
करती थी स्पर्श मुझे
प्यारी बातें करते-करते
बीत गए दो वर्ष मुझे
ढूंढूं उसको मैं तम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में।

मन की बस इतनी इच्छा थी
कि तुम मेरी हो जाती
मैं तुममें और तू मुझमें
कुछ ऐसे ही खो जाती
हुए नहीं मैं, तुम हम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में ।

नई भोर के साथ सदा
उत्कर्ष हमारा मिलता था
एक ठिठोली से तेरी
ये हृदय का कोपल खिलता था
खुशियां मिल जाती गम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में ।

बात नहीं उस रात की पूछो
नींद भी जैसे भुला गई
आंखों में लेकर आंसू वो
खुद भी मुझको रुला गई
रखती मुझको अपनी कसम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में ।

भले ही तुमसे दूर रहेंगे
फिर भी अपना मानेंगे
कभी जरूरत पड़े जो मेरी
हाथ तेरा हम थामेंगे
लिखेंगे अपने अच्छे करम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में ।

दूर हुए एहसास किया
पर इक दूजे को न भूलेंगे
साथ अगर मिल जाए उसका
सुख दुख साथ में झेलेंगे
दूर हुए हम जग के शरम में
मिलेंगे हम अब अगले जनम में।

अजय एहसास
सुलेमपुर परसावां
अम्बेडकर नगर (उ०प्र०)

अजय एहसास

युवा कवि और लेखक, अजय एहसास उत्तर प्रदेश राज्य के अम्बेडकर नगर जिले के ग्रामीण क्षेत्र सलेमपुर से संबंधित हैं। यहाँ एक छोटे से गांव में इनका जन्म हुआ, इनकी इण्टरमीडिएट तक की शिक्षा इनके गृह जनपद के विद्यालयों में हुई तत्पश्चात् साकेत महाविद्यालय अयोध्या फैजाबाद से इन्होंने स्नातक की उपाधि प्राप्त की। बचपन से साहित्य में रुचि रखने के कारण स्नातक की पढ़ाई के बाद इन्होंने ढेर सारी साहित्यिक रचनाएँ की जो तमाम पत्र पत्रिकाओं और बेब पोर्टलो पर प्रकाशित हुई। इनकी रचनाएँ बहुत ही सरल और साहित्यिक होती है। इनकी रचनाएँ श्रृंगार, करुण, वीर रस से ओतप्रोत होने के साथ ही प्रेरणादायी एवं सामाजिक सरोकार रखने वाली भी होती है। रचनाओं में हिन्दी और उर्दू भाषा के मिले जुले शब्दों का प्रयोग करते हैं।‘एहसास’ उपनाम से रचना करते है।

Leave a Comment