राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत हुए कोरोना पॉजिटिव

By रमेश सर्राफ धमोरा

Published on:

rajasthan chief minister gehlot became corona positive

कल उनके पुत्र वैभव गहलोत कोरोना पॉजिटिव हुए थे

झुंझुनू 6 जनवरी। रमेश सर्राफ

राजस्थान में कोरोना का कहर हर दिन बढ़ता ही जा रहा है। प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव केस आने की संख्या हर दिन पिछले दिन से डेढ़ गुना अधिक होती जा रही। आज राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। कल उनका पुत्र व राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष वैभव गहलोत कोरोना पॉजिटिव हो गए थे। ऐसे में कोरोना के कहर से प्रदेश का आम आदमी डरा हुआ महसूस कर रहा है।

राजस्थान में आज 2656 नए कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं। जबकि बुधवार को 1883 नए कोरोना पॉजिटिव केस मिले थे। कल की तुलना में आज 773 अधिक कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं। आज सर्वाधिक कोरोना पॉजिटिव केस 1439 जयपुर जिले में मिले हैं। जोधपुर में 360 नए केस, अलवर में 144 नए केस, चित्तौड़गढ़ में 90 नए केस, उदयपुर में 89 नए केस, अजमेर में 87 नए केस, बीकानेर में 82 नए केस, भरतपुर में 79 नए केस, कोटा में 58 नए केस, भीलवाड़ा में 34 नए केस, गंगानगर में 32 नए केस, सवाई माधोपुर में 29 नए केस, बाड़मेर में 17 नए केस, सिरोही में 15 नए केस, डूंगरपुर, नागौर, सीकर में 12-12 नए केस, प्रतापगढ़ व टोंक में 11-11 नये केस, बांसवाड़ा में 10 नए केस, हनुमानगढ़ में 9 नए केस, झालावाड़ में 8 नए केस, बारां व झुंझुनू में 4-4 नए केस, चूरु, दोसा व जैसलमेर में 2-2 नए केस, धौलपुर व करौली में एक एक नया केस मिला है।आज राजस्थान के 33 में से 4 जिले बूंदी, जालोर, राजसमंद व पाली को छोड़कर बाकी सभी 29 जिलों में कोरोना के नए पॉजिटिव केस मिले हैं।

आज राजस्थान में 404 कोरोना पॉजिटिव लोग स्वस्थ होकर अपने घर चले गए हैं वहीं प्रदेश में आज किसी की कोरोना से मौत भी नहीं हुई है जो प्रदेश वासियों के लिए एक अच्छी खबर है। अभी राजस्थान में 7268 कोरोना के एक्टिव केस मौजूद है।प्रदेश के मुख्यमंत्री व उनके पुत्र का कोरोना पॉजिटिव होना बहुत ही चिंताजनक है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कोरोना की दूसरी लहर में भी पॉजिटिव हो गए थे। जिस कारण उन्हें कोरोना के बाद की बीमारियों के चलते कई महीनों तक अपने सरकारी आवास से ही राजकार्य चलाना पड़ा था। पिछले कुछ दिनों से ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत घर से बाहर आकर काम करना शुरू किया था मगर अब फिर से पॉजिटिव हो जाने के कारण उनको एक बार फिर घर पर रहकर ही राजकीय कार्य करना पड़ेगा।

प्रदेश में अभी जयपुर व जोधपुर को छोड़कर सभी जगह स्कूल कॉलेज व अन्य शैक्षणिक संस्थान खुले हुए हैं। शादी विवाह में भी अभी ज्यादा पाबंदियां नहीं लगाई गई है। जबकि प्रदेश में कोरोना के बढ़ती रफ्तार को देखते हुए अभी से कड़ाई करने की जरूरत है। यदि सरकार तुरंत ही पाबंदी लागू नहीं करेगी तो पिछली बार की तरह इस बार भी प्रदेश की जनता को बड़ी संख्या में जान गंवानी पड़ सकती है। इसलिए सरकार को पहले से ही पूरी सतर्कता बरते हुए सावधानीपूर्वक कड़े कदम उठाने चाहिये।

रमेश सर्राफ धमोरा

आप अधिस्वीकृत स्वतंत्र पत्रकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते रहते हैं।

Leave a Comment