सात दिन में झुंझुनू जिले से दूसरा जवान हुआ शहीद

By रमेश सर्राफ धमोरा

Published on:

Second soldier martyred from Jhunjhunu district in seven days
झुंझुनू,16 दिसम्बर। शब्दरंग न्यूज डेस्क

देश आज 1971 के युद्ध में पाकिस्तान को करारी शिकस्त देने के 50 वर्ष पूरे होने पर विजय दिवस मना रहा है। वही गुरुवार को राजस्थान में झुंझुनू जिले की वीर भूमि ने एक तमगा और अपने सीने पर लगा लिया है। देश के लिए एक सप्ताह में ही दूसरा जवान शहीद हो गया है। सात दिन पहले ही जिले के घरड़ाना गांव के कुलदीप सिंह राव तमिलनाडु के कुन्नूर में हुए वायुसेना के हेलिकॉप्टर हादसे में शहीद हो गये थे।

डनके सात दिन बाद ही झुंझुनू जिले के भैसावता कला गांव के बीएसएफ जवान सुजान सिंह नरूका के शहीद होने पर गुरुवार को पैतृक गांव में सुजान सिंह अमर रहे के गगनभेदी नारों के बीच गमगीन माहौल में उनका अंतिम संस्कार किया गया। अंतिम संस्कार से पहले शहीद का पार्थिव देह सिंघाना पहुंचा तो वहां से डीजे पर राष्ट्रभक्ति की धुनों व वंदे मातरम के नारों के साथ तिरंगा यात्रा के रूप में घर पर लाया गया। घर पर आते ही महिलाओं में कोहराम मच गया।

घर की रस्मों को निभाने के बाद तिरंगा यात्रा के साथ स्कूल के सामने पार्थिव देह को लाया गया वहां बीएसएफ की टुकड़ी ने गार्ड ऑफ ऑनर वह हवाई फायर कर के अंतिम सलामी दी गयी। बड़े बेटे ओमवीर सिंह ने अपने शहीद पिता को मुखाग्नि दी। जब बीएसएफ के अधिकारी ने बड़े बेटे ओमवीर सिंह को तिरंगा सौंपा तो माहौल गमगीन हो गया। शहीद सुजान सिंह का जन्म 1972 में हुआ था। 1994 में वो बीएसएफ में भर्ती हुये थे। 1996 में मंजू कंवर के साथ उनकी शादी हुई थी। उनके दो बेटे ओमवीर सिंह व रविंद्र सिंह हैं। उनका एक छोटा भाई सूरत सिंह व तीन बहिन हैं। जिनकी शादी हो चुकी है। उनके पिता अमर सिंह का 32 साल पहले निधन हो चुका है। उनकी माता मान कंवर है।

आपको बता दें कि उड़ीसा के लक्ष्मीपुर कोरापुट इलाके में हुए नक्सली हमले में 155 बीएसएफ बटालियन में तैनात झुंझुनू जिले के भैंसावता खुर्द गांव के हवलदार सुजान सिंह नरूका शहीद हुए। शहीद को श्रद्धांजलि देने वालों में पूर्व मंत्री राजपाल शेखावत, यूनुस खान, जिला प्रमुख हर्षिनी कुल्हरी, विधायक सुभाष पूनिया, जिला कलेक्टर उमरदीन खान, जिला पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी जयपाल पुनिया, सूबेदार जयकरण डांगी, पूर्व विधायक दाताराम गुर्जर, खेतड़ी प्रधान मनीषा गुर्जर, पूर्व प्रधान कैलाश मेघवाल, नीता यादव सहित अनेक लोगों ने पुष्प चक्र व माला चढ़ाकर शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित की।

रमेश सर्राफ धमोरा

आप अधिस्वीकृत स्वतंत्र पत्रकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते रहते हैं।

Leave a Comment