नशामुक्त भारत अभियान के तहत हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से मिले सुमित सिंह

By प्रभुनाथ शुक्ल

Updated on:

नशामुक्त भारत अभियान के तहत हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय से मिले सुमित सिंह
  • राज्यपाल से मिल विश्वविद्यालय में नाशमुक्त घोषणा पत्र जारी करने का किया आग्रह
  • सारनाथ स्थित तिब्बती विश्विद्याल देश का पहला नशामुक्त विश्वविद्यालय बना

भदोही, 6 जुलाई। शब्दरंग न्यूज़ डेस्क


राष्ट्रीय नशामुक्ति एवं पुनर्वास समिति भारत सरकार के सदस्य सुमित सिंह शिमला राज भवन में राज्यपाल बंडारू दत्तातरे से मिले। इस दौरान उन्होंने हिमाचल प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय में नशामुक्त घोषणा पत्र जारी करने हेतु आग्रह किया।

सुमित सिंह ने बताया कि तीन माह पूर्व राज्यपाल से मुलाकात हुई थी जिसमें में औपचारिक मुलाकात हुई थी जिसमें महामहिम ने नशामुक्त भारत अभियान को खूब सराहा था। इसी कड़ी में पुनः मिलकर आग्रह किया कि हिमाचल प्रदेश के विश्वविद्यालय में बच्चों के दाखिला के वक़्त नशामुक्ति हेतु संकल्प पत्र भरवाएं जाएं। जिसमें यह इंगित हो कि छात्र एवं छात्रा नशा नहीं करेंगे और न ही किसी को करने देंगे। मुलाकात में राज्यपाल ने कहा कि इस अभियान को प्रोत्साहित करेंगे। सुझाव पर अमल करने हेतु आश्वासन भी दिया ।

सुमीत सिंह ने कहा कि नशामुक्त भारत अभियान को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी युवाओं से अपील किया है। देश के युवाओं को अब नशामुक्त होना होगा। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार द्वारा 272 जिलों में नशामुक्त अभियान चलाए गए थे। जिसमें हिमाचल प्रदेश के भी चार जिलों शिमला, कुल्लू,मंडी और चंबा चुने गए थे। उन्होंने बताया सारनाथ स्थित तिब्बती विश्विद्याल देश का पहला नशामुक्त विश्वविद्यालय बन गया है। इस दौरान अवनीश सिंह भी राज्यपाल से मुलाकात के दौरान मौजूद रहे

प्रभुनाथ शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, कवि और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते हैं। हिंदुस्तान, जनसंदेश टाइम्स और स्वतंत्र भारत अख़बार में बतौर ब्यूरो कार्यानुभव।

Leave a Comment