शीर्षक- आ गये परदेश में..

By अजय एहसास

Updated on:

Title - I have come abroad..

इक नई दुनिया बसाने आ गए परदेश में
अपना घर परिवार सब कुछ था हमारे देश में
बस चंद सिक्के थे नहीं मां की दवाई के लिए
अब वही दौलत कमाने आ गये परदेश में ।।

साथ में रहकर खड़े सुख दुख सभी का बांटना
खेतों की मेड़े काटना और दूसरों को डांटना
लड़ते झगड़ते थे भले फिर साथ में थे बैठते
अब नहीं ऐसे पड़ोसी आ गये परदेश में ।।

भउजी बगल की थी बुलाती आइये चाय पीजिए
कुछ खाइये मेरे यहां एहसान इतना कीजिए
जी जबरदस्ती बुलाती राह चलते वो मुझे
बिना मतलब बात ना अब आ गए परदेश में।।

स्वाद था मिलता गजब पालक व सरसों साग में
घूमते थे खेत में और पूरा दिन तो बाग में
एक कमरे में सिमटकर रह गई है ज़िन्दगी
धूप भी अब नहीं दिखती आ गये परदेश में ।।

जब कभी बाजार जाते कुछ न कुछ सब थे खिलाते
कोई लग जाता गले तो हाथ भी कुछ थे मिलाते
ढूंढता हूं आज भी उनको यहां बाजार में
पर नहीं मिलते हैं क्योंकि आ गये परदेश में ।।

था भरा परिवार सारा एक दूजे का सहारा
काम सब मिल जुल के करते हो तुम्हारा या हमारा
कोई कपड़ा धुल दिया कोई बाल काला कर दिया
अब यहां सब खुद करें हम आ गये परदेश में ।।

दर्द थोड़ा सा जो होता दौड़ती थी भाभियां
खुश मुझे रखने को मेरी मां ने क्या क्या ना किया
रोज ही आशीष मिलता था चरण छूए बिना
अब नमस्ते का न उत्तर आ गये परदेश में ।।

याद आता है मुझे ममतामयी मां का दुलार
और बरसाती थी भाभी मुझे अपना सारा प्यार
ना मिले ममता दया करुणा मिले ना प्रेम अब
हो गया ”एहसास” हमको आ गये परदेश में ।।

-अजय एहसास
सुलेमपुर परसावां
अम्बेडकर नगर (उ०प्र०)

अजय एहसास

युवा कवि और लेखक, अजय एहसास उत्तर प्रदेश राज्य के अम्बेडकर नगर जिले के ग्रामीण क्षेत्र सलेमपुर से संबंधित हैं। यहाँ एक छोटे से गांव में इनका जन्म हुआ, इनकी इण्टरमीडिएट तक की शिक्षा इनके गृह जनपद के विद्यालयों में हुई तत्पश्चात् साकेत महाविद्यालय अयोध्या फैजाबाद से इन्होंने स्नातक की उपाधि प्राप्त की। बचपन से साहित्य में रुचि रखने के कारण स्नातक की पढ़ाई के बाद इन्होंने ढेर सारी साहित्यिक रचनाएँ की जो तमाम पत्र पत्रिकाओं और बेब पोर्टलो पर प्रकाशित हुई। इनकी रचनाएँ बहुत ही सरल और साहित्यिक होती है। इनकी रचनाएँ श्रृंगार, करुण, वीर रस से ओतप्रोत होने के साथ ही प्रेरणादायी एवं सामाजिक सरोकार रखने वाली भी होती है। रचनाओं में हिन्दी और उर्दू भाषा के मिले जुले शब्दों का प्रयोग करते हैं।‘एहसास’ उपनाम से रचना करते है।

Leave a Comment