शीर्षक – बहुत है।।

By अजय एहसास

Published on:

Title-Very-Hai-Kavita-Ajay-Ehsaas

ये दिल हर बात को छुपाता बहुत है
दिखता नहीं पर दिल से उसे अपनाता बहुत है ।
नजर कर दे ना कभी कोई गुस्ताखी उनसे
बेचारा दिल इसे समझाता बहुत है ।।

वो देखती नहीं कभी कहीं मुड़ करके तुझे
फिर भी मोहब्बत के सपने सजाता बहुत है ।
कभी तो बोल दे कि उनसे मोहब्बत तुझको
किया है प्यार मगर शरमाता बहुत है ।।

बिछाए पलकें हैं दीदार उनका करने को
कमबख्त इंतजार भी तड़पाता बहुत है ।
मुझे खुद में अकेला ही छोड़ देता है
ये दिल उनके पास ही जाता बहुत है ।।

निगाहें देखना चाहें ना खूबसूरत को
बस उनकी सादगी भाता बहुत है ।
यार कहते हैं कि जाओ करो इजहार तो अब
जब भी नजदीक जाए दिल तो घबराता बहुत है ।।

भले वो दूर रहें पर वो मेरे सामने रहें
करके दीदार उनका दिल सुकूं पाता बहुत है ।
ना तरन्नुम का इल्म और ना ही साज कोई
ज़ेहन में रख के उनको आजकल गाता बहुत है।।

बता रही है आंख रात में ना सोए हो
हो गया इश्क है ये तो जगाता बहुत है ।
हमारी आंख तो खुलती नहीं सुबह जल्दी
खोकर ख्वाबों में उसके दिल ये सुलाता बहुत है।।

तुझसे हूं दूर मगर फिक्र तेरी है मुझको
करीब आके तेरे वो मुझे जलाता बहुत है ।
देख कर तुझको मेरे होंठ भी खिल जाते हैं
दोस्त कहते हैं तू मुस्कुराता बहुत है ।।

ख्याल दिल में ही होती अगर तो जी लेते
मगर दिमाग में भी आता बहुत है।
मोहब्बत है मगर तू इसे “एहसास” तो कर
एक तरफा मोहब्बत तो सितम ढाता बहुत है।।

कविता-अजय एहसास

सुलेमपुर परसावां
अम्बेडकर नगर (उ०प्र०)

अजय एहसास

युवा कवि और लेखक, अजय एहसास उत्तर प्रदेश राज्य के अम्बेडकर नगर जिले के ग्रामीण क्षेत्र सलेमपुर से संबंधित हैं। यहाँ एक छोटे से गांव में इनका जन्म हुआ, इनकी इण्टरमीडिएट तक की शिक्षा इनके गृह जनपद के विद्यालयों में हुई तत्पश्चात् साकेत महाविद्यालय अयोध्या फैजाबाद से इन्होंने स्नातक की उपाधि प्राप्त की। बचपन से साहित्य में रुचि रखने के कारण स्नातक की पढ़ाई के बाद इन्होंने ढेर सारी साहित्यिक रचनाएँ की जो तमाम पत्र पत्रिकाओं और बेब पोर्टलो पर प्रकाशित हुई। इनकी रचनाएँ बहुत ही सरल और साहित्यिक होती है। इनकी रचनाएँ श्रृंगार, करुण, वीर रस से ओतप्रोत होने के साथ ही प्रेरणादायी एवं सामाजिक सरोकार रखने वाली भी होती है। रचनाओं में हिन्दी और उर्दू भाषा के मिले जुले शब्दों का प्रयोग करते हैं।‘एहसास’ उपनाम से रचना करते है।

Leave a Comment