यूपी : अब सीवर में नहीं उतरेगा सफाईकर्मी, मशीनों से होगी सफाई- छाया

By प्रभुनाथ शुक्ल

Published on:

UP-Now-the-sweeper-will-not-enter-the-sewer

नगरों में कार्यरत संविदा कर्मचारियों को माह में और मिलेंगी चार छुट्टियां

महिला सफाई कर्मचारियों ठंड से बचाने के लिए स्वेटर और पुरुषों को मिलेंगे गर्म कपड़े

भदोही 20 सितंबर । शब्दरंग न्यूज़ डेस्क

राज्य की योगी सरकार नगर नगर पंचायतों और पालिकाओं में कार्यरत संविदा और नियमित सफाई कर्मियों पर मेहरवान है। सोमवार को राज्य सफाई कर्मचारी आयोग की सदस्य छाया देवी भदोही में थीं। उन्होंने कहा कि सीवर की सफाई के लिए मशीनों का प्रयोग किया जाए। किसी भी स्थिति में किसी सफाई कर्मी को सीवर में उतरने के लिए मजबूर न किया जाए।

आयोग की सदस्या ने कहा कि आउटसोर्सिंग और संविदा पर तैनात सफाई कर्मियों के मानदेय का नियमानुसार ईपीएफ एवं ईएसआई भी काटा जाए। यह भी सुनिश्चित कराया जाए कि सभी कर्मियों को भुगतान हुआ है अथवा नहीं। नियमित व संविदा सफाई कर्मचारियों के देय यदि लम्बित हैं तो उसके स्पष्ट कारणों सहित रिपोर्ट प्रस्तुत करें। उपस्थित सफाई कर्मचारियों की समस्याओं को सुना तथा नियमानुसार समय से उनके निस्तारण का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि सफाई कर्मचारियों की समस्याओं को दूर करने के लिए आवश्यक कार्यवाही की जाए।

Now the sweeper will not enter the sewer 1

जनपद भदोही के भ्रमण के दौरान उन्होंने नगर पंचायत एवं नगर पालिका परिषद से संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ तहसील सभागार ज्ञानपुर में बैठक की। आयोग की सदस्या छाया ने नगर पालिका परिषद और नगर पंचायतों के सभी सफाई कर्मचारियों का मानदेय समय से देने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि सभी संविदा कर्मचारियों की माह में चार छुट्टियां अवश्य दी जाएं । सर्दियों के समय महिला सफाई कर्मचारियों को स्वेटर तथा पुरुष कर्मचारियों को गरम कपड़े दिए जाने का निर्देश भी अधिशासी अधिकारियों को भी दिया। अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिए कि कार्य में आ रही अनियमितताओं को शीघ्र दूर किया जाए।

सीवर में कार्यरत कर्मचारियों को समय से वेतन दिया जाना सुनिश्चित किया जाए। दैनिक कर्मचारियों व वार्डों में ड्यूटी, वेतन, एरियर, साप्ताहिक छुट्टी सहित अन्य समस्याओं का सयमबद्ध निस्तारण किया जाए। इसमें जिस स्तर पर लापरवाही होगी तो सम्बधिंत के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी।

उन्होंने वाल्मीकि दैनिक कर्मचारियों से वार्डों में ड्यूटी, वेतन, एरियर, साप्ताहिक छुट्टी सहित अन्य समस्याओं के बारे में भी जानकारी लिया। उन्होंने कहा कि जीवन अमूल्य है, हमें अपना कार्य कर्तव्यनिष्ठा के साथ काम करना चाहिए, तभी हमारा जीवन दूसरों के लिए प्रेरणा बन सकता है। वहीं जीवन की सुरक्षा के लिए सफाई अत्यंत आवश्यक है। जीवन का मूल मंत्र ही स्वच्छता होना चाहिए।

प्रभुनाथ शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, कवि और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते हैं। हिंदुस्तान, जनसंदेश टाइम्स और स्वतंत्र भारत अख़बार में बतौर ब्यूरो कार्यानुभव।

Leave a Comment