सोशलमिडिया पर खेत में बिलखते किसान का वीडियो हुआ वायरल

By प्रभुनाथ शुक्ल

Published on:

farmer crying in the field went viral
  • किसान सूखती धान की फसल बचाने के लिए बादलों से लगा रहा गुहार
  • पूर्वांचल में सूखे की स्थिति बारिश न होने से सूख रहीं धान की फसल

भदोही,19 जुलाई । प्रभुनाथ शुक्ल

सोशलमीडिया पर धान के खेत में एक किसान बिलखता हुआ बादलों से फसल बचाने की अपील कर रहा है। किसान का यह वीडियो खूब वायरल हो रहा है। वीडियो कहाँ का है यह पता नहीं चला है। लेकिन खेत में सुखती धान की फसल साफ नजर दिखती है।

पूर्वांचल में सूखा पड़ गया है। बारिश नहीं हो रहीं है जिसकी वजह से खेतोँ में जहाँ धान की बेहन सुख रहीं है और रोपाई नहीं हो पा रहीं है। वहीं दूसरी तरफ किसी तरह रोपी गयी धान की फसल खेतोँ में सुख रहीं है। खेतोँ में दारारें पड़ गयी हैं। बारिश न होने जहाँ किसान बेहाल है। उसकी सारी मेहनत और उम्मीद टूट रहीं है। वहीं उमस और भीषण गर्मी की वजह से जीना मुश्किल हो गया है।

सोशलमिडिया पर वायरल वीडियो कहाँ का है यह पता नहीं चल सका है लेकिन बिलखते किसान और उसकी पीड़ा से सभी परेशान हैं। यह वीडियो पूर्वांचल के किसानों की पीड़ा बयां कर रहा है। वाराणसी, भदोही, मिर्जापुर, सोनभद्र, जौनपुर, आजमगढ़, मऊ, गाजीपुर, बलिया और दूसरे जिलों में बारिश नहीं हो रहीं है। किसान धान की फसल की जहाँ रोपाई नहीं कर पाया है। वहीं भदयीं खेती भी नहीं हो पायी है। बारिश न होने से किसान बेहाल है।

सोशलमिडिया पर वायरल वीडियो पूर्वांचल के किस जनपद का है यह कहना मुश्किल है, लेकिन यह किसानों की दुर्दशा बतलाने में काफी है। वीडियो में किसान सुखती धान की फसल से लिपट कर बिलख रहा है। पानी के अभाव में खेत में दारारें पड़ गयी हैं।किसान रोते हुए कह रहा है कि ‘अरे, मोर धनवा हो धनवा’…बादलों से वह गुहार लगता और सीने को पीटता हुआ कह रहा है कि ‘हे बादल राजा अब आप कब बरसोगे, आपने तो हमारी धान की फसल को निगल लिया’..गांव की बोली में वह चिल्लाता और रोता हुआ बादलों से गुहार लगा रहा है। यह पूर्वांचल के किसानों की सच्ची तस्वीर पेश कर रहा है। बारिश न होने से पूर्वांचल में सूखा पड़ गया है।

प्रभुनाथ शुक्ल

लेखक वरिष्ठ पत्रकार, कवि और स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं। आपके लेख देश के विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित होते हैं। हिंदुस्तान, जनसंदेश टाइम्स और स्वतंत्र भारत अख़बार में बतौर ब्यूरो कार्यानुभव।

Leave a Comment